Thursday, January 1, 2009

मेरी जिंदगी, तुम्हारी जिंदगी


मेरी जिंदगी, तुम्हारी जिंदगी



जिंदगी ,जिंदगी ,जिंदगी
हर मोड़ पर खड़ी है एक नई जिंदगी..
खुशियों को हर पल तलाशती है जिंदगी
गमों से पार पाना चाहती है जिंदगी...
अंधेरी सुनसान बंद गलियों में खड़ी है हमारी जिंदगी..
वक्त ने दिखाया है आज एक नया आईना...
अंधेरों से निकलकर आज आजाद हुई है हमारी जिंदगी.....
आंखे उठाकर आसमां की ओर देख रहा हूं मैं...
हर एक तारें में दिख रही है हमारी जिंदगी....
पत्थरों की प्यास में झलकती है हमारी जिंदगी....
हर दीवार के जर्रे में है एक जिंदगी....
एक राह पर दौड़ रही है दो जिंदगी.....
फिर भी सोचने को मजबूर है हमारी जिंदगी...
फिर भी रटते रहते हैं हम...
जिंदगी जिंदगी जिंदगी....
हमारी जिंदगी, तुम्हारी जिंदगी...
-- रजनीश कुमार

2 comments:

प्रकाश बादल said...

स्वागत है आपका नव वर्ष की शुभकामनाएं।

Meenakshi Kandwal said...

"वक्त ने दिखाया है आज एक नया आईना...
अंधेरों से निकलकर आज आजाद हुई है हमारी जिंदगी.....
आंखे उठाकर आसमां की ओर देख रहा हूं मैं...
हर एक तारों में दिख रही है हमारी जिंदगी "
खूबसूरत अभिव्यक्ति..
शुभकामनाएं....