Wednesday, February 21, 2018

।। बता देता है।।

Writer, Director & Poet Rajnish BaBa Mehta 



।। बता देता है।।

 सत्ता में सुख सामर्थ की नींव हिला देता है। 
सच्चा इश्क इंसानों के जज्बातों की नींव हिला देता है।
छोटे दिलासे, रहनुमाओं को राह पल भर में दिखा देता है।
मिला था हिमालय की तराई में उस सारंगी वाले जोगी से 
जो पलभर में बंद कर आंखें, कंकड़ में शंकर दिखा देता है।।

अफसोस के इस अफसानों में, हर कोई स्याही दिखा देता है। 
रात के रास्तों पर मिलो, तो खुद के गमों का मंजर बता देता है। 
नासाफ़ सा दिल लिए चलकर भी वो, ज़ियारत की दहलीज मांगता है 
गैरत की महफिल में गम्माज़ बनकर फिरता रहता है तख्त की फिराक में 
जब पकड़ा जाता है रंगे हाथों , तो वो घुटनों के बल मौत की दुआ मांग लेता है।।

तरान--ज़िंदगी राख बनकर सांसों मे पेवस्त हुई बेवजह बता कर , 
नंगे कदमों की आहटों को अनसुना किया शोर को वजह बता कर ,
फितरत थी उसकी बातों में, जो ज़मीर बेचती थी फ़लक बता कर ,
लो चला है आखिरी रास्तों में राम लिए, जो आखिरी शाम का पता बता देता है 
अबस झूठ ना कहना आखिरी लम्हों में, वरना कब्र भी अंधेरों का पता बता देता है  
क़ातिब 
रजनीश बाबा मेहता 
नासाफ़= गन्दा, अशुद्ध, अपवित्र।। क़ायदा= रीति, नियम,।।गम्माज़ -चुगलीबाज़।।ज़मीर= मन, हृदय।।फ़लक= आकाश, स्वर्ग।।

No comments: